माँ तू होती तो… Mother, Had you been here…


नींद बहोत आती है पढते पढते,
माँ तू होती तो कह देते, एक कप चाय बना दे,
थक गया हू मेस की रोटी खा खा के,
माँ तू होती तो कह देते, पराठे बना दे,
वही कोशीश खुश रहने की,
माँ तू पास होती तो मुस्कुरा लेते,
बहोत दूर निकल आए हम घर से,
माँ तेरे सपनोंकी परवाह ना होती, तो कब का घर चले आते,
तरसते है तेरे प्यार के सागर को,
ममता के आँचल को पाने के लिए,
यहा कोई दया की भीख भी नही मिलती,
जी रहे है तन से हार कर, मन को मार कर,
घर से दूर, अपनोंसे अलग, इस मतलबी संसार में,
फिर भी कर रहे है अपने आप से लड़ाई,
अकेले अकेले,
सिर्फ़ तेरे लिए माँ.

I received this poem from a friend of mine via SMS, it’s so touching that I couldn’t stop posting it here🙂

9 thoughts on “माँ तू होती तो… Mother, Had you been here…

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s