Her Hands…

तेरा हाथ हाथोंमें आते ही,
कायनात जैसे रुक गयी,
धड़कने तेज़ हो गयी और,
ज़ुबान जैसे बीच में ही अटक गयी.

तेरा हाथ हाथोंमें आते ही,
तूफान भी जैसे हवा का झोंका लगता है,
सदिया बीत जाती है लेकिन,
एक लम्हा भर सा लगता है.

— प्रसाद
Advertisements